HomePoliticsक्या बंद हो जाएंगे 10रु वाले जूस और सॉफ्ट ड्रिंक |

क्या बंद हो जाएंगे 10रु वाले जूस और सॉफ्ट ड्रिंक |

अब तक जो आप ₹10 वाली ड्रिंक पी रहे थे तो हो सकता है कि कंपनियों को बंद करनी पड़ जाए या फिर उनके दाम बढ़ा दिया जाए । अब आप सोच रहे होंगे कि हम ऐसा क्यों कह रहे हैं तो आपको बता दें । देश में एक जुलाई से सिंगल यूज प्लास्टिक पर बैन लगने जा रहा है। इसका मतलब यह हुआ कि अभी हम जो प्लास्टिक की चम्मच कटोरी, कप और गिलास से लेकर स्ट्रो तक का इस्तेमाल करते हैं, इन सभी पर बैन लग जाएगा क्योंकि हर ₹10वाली ड्रिंक के साथ एक स्ट्रो चिपक कर आती है बैन लगने के बाद स्ट्रो का इस्तेमाल कंपनियां नहीं कर पाएंगे|

ऐसे में सॉफ्ट ड्रिंक बनाने वाली कंपनियों को ₹10 वाले की कीमत बढ़ाने या फिर इसे बंद करने की चिंता सताने लगी। खबर के मुताबिक Frooti, Tropicana, Slice, Real और Maaza ड्रिंक को कंपनियां ₹10 की कीमत पर टेट्रा पैक में बेचती है| इनके साथ एक स्ट्रो भी दी जाती है ताकि ग्राहक को जूस पीने में आसानी हो। अब जब स्ट्रो बैन होने जा रही है तो कंपनियों के सामने इसका कोई उपयुक्त विकल्प उपलब्ध नहीं है लेकिन पेपर स्ट्रो एक अच्छा विकल्प है लेकिन भारत में इतने बड़े पैमाने पर पेपर स्ट्रो का निर्माण नहीं होता है जो इन कंपनियों की आपूर्ति कर सकें, इसलिए कंपनियों को इंडोनेशिया और मलेशिया से काफी बड़ी संख्या में आयात करना होगा| और इससे उनकी लागत बढ़ जाएगी इससे कंपनी को डर है कि उन्हें कीमतों में बढ़ोतरी ना करनी पड़ जाए या फिर इन प्रोडक्ट को बंद न करना पड़ जाए है अगर कंपनियां पेपर स्ट्रो को आयात करती हैं तो उनकी लागत 278 % तक बढ़ जाएगी।

वहीं स्टॉर्च से बनने वाली कंपोस्टेबल स्ट्रो लाने से लागत 259 % तक पड़ जाएगी। Frooti ब्रांड की मालिक कंपनी parle agro ने सरकार से इस बैन को 6 महीने आगे करने की मांग भी की है। सरकार इस पर क्या कहेगी यह कहना कठिन है फिलहाल कंपनियों का कहना है कि इसको फिलहाल टालने से कंपनियों को घरेलू स्तर पर आने के लिए उपयुक्त स्‍ट्रक्‌च खड़ा करने में मदद मिल जाएगी | सरकार ने अगस्त 2021 में सिंगल यूजप्लास्टिक के उपयोग पर बैन लगाने का नोटिफिकेशन जारी कर दिया था। इसके बाद अब देश में जुलाई 2022 तक सभी सिंगल यूज प्लास्टिक बैन कर दी जाएगी।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments